Assam tea

Direct From Assam

Buyers Review

Average:
Good:
Very Good:
Excellent:

Today's Tea, 20-09-19
No Digital Modification has been Done.
Due to CLOSE UP photography,
Actual Product Might Slightly Differ.


OF @ Rs 140

Dust @ Rs 140

PD @ Rs 140

BPsm @ Rs 135

BPs @ Rs 140

BPsm @ Rs 135

OF @ Rs 140

Blend @ Rs 140

Dust @ Rs 140

OF @ Rs 140

Here, we have published articles related to tea and tea business, written by experts and by everyday tea users.
This articles will give you an indepth insights on tea. These will help you take right decissions when you buy tea for your business or for your home use.

Previous     1   2   3   4   5       Next
चाय का कोवालिटी और दर कैसे समझे ......

यदि आप एक चाय व्यवसायी हैं या चाय व्यवसायी बनना चाहते हैं, तो आपको चाय की गुणवत्ता को समझने के जानकारी होना चाहिए। ताकि जब आप चाय खरीदते हैं, तो आप अच्छी चाय, बेहतर चाय, औसत चाय और विशेष रूप से निम्न गुणवत्ता वाली चाय की पहचान कर सके। गुणवत्ता को समझने का सबसे अच्छा तरीका चाय का स्वाद लेना। लेकिन जब आप चाय खरीदने के लिए थोक बाजार जाते हैं, तो आम तौर पर आपको उनकी दुकानों में चाय परीक्षण सुविधाएं नहीं मिलेंगी। तो यहां आप चाय परीक्षण के वैकल्पिक तरीके उपयोग कर सकते हैं। ये तकनीकें बहुत उपयोगी हैं। सभी खुदरा चाय खरीदारों, खुदरा विक्रेता से अपनी चाय चुनने के लिए इन सभी तकनीकों का उपयोग करते हैं। अच्छी चाय सुगंध खुद ही 1. मीठी सुगन्ध ----- अच्छी चाय में एक अलग ही सुगंध होती है, जो मीठा और बहुत सुंदर है। सुगंध स्वयं ही इसकी सराहना करने के लिए मजबूर करती है। अच्छी गुणवत्ता वाली चाय सुगंध अनोखा है। आपको इस दुनिया की किसी भी अन्य चीज़ में ऐसा सुगंध नहीं मिलेगी। चाय हमेशा अद्वितीय है। जब सुगंध बेहतर, गुणवत्ता अपने आप बेहतर । जब आपको चाय में अलग गंध मिलती है, उदाहरण के लिए हरे पत्ते या सब्जियों की तरह या गैर चाय वस्तुओं की तरह गंध आती है, फिर यह चाय की गुणवत्ता सही नहीं है। फिर या तो यह जानबूझकर या अनजाने में कम सुखाया गया या कुछ अन्य चीजें के साथ मिलाया गया। रूप ------ चाय की रंग काला या भूरे रंग का काला होना चाहिए लेकिन बहुत काला नहीं होना चाहिए। बहुत काला चाय कृत्रिम रूप से बनाई जाती है।। ब्राउन रंग का मतलब है कि ये सेकंडरी चाय या बड़ा बड़ा बूढ़ा पत्ते से चाय बनाया गया है । तो फिर यह कम गुणवत्ता का है। लेकिन याद रखें, सेकंडरी चाय प्राइमरी चाय की तुलना में गुणवत्ता में कम है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इसकी गुणवत्ता कम है। यदि सेकंडरी चाय अच्छी गुणवत्ता वाली प्राइमरी चाय का उपज है तो, यह सेकंडरी चाय भी काफी मात्रा में अच्छी गुणवत्ता वाली होगी। बूढ़ा पत्ते से बनाया गया चाय की दाना में निकलने वाले फाइबर होते हैं। क्योंकि काटने की मशीन इसे ठीक से काट या मोड़ नहीं सकती है। अच्छी गुणवत्ता वाली चाय दाना पर एक चमक या खिलना दिखाएगा। दूसरी तरफ सेकंडरी चाय निष्प्रभ और बिना चमक के होगी । कटाई ----- चाय की दाना पूरी तरह गोल दिखना चाहिए। उसमे किसी भी प्रकार के तन्तु या फाइबर नहीं होना चाहिए। अगर यह चपटा जैसा दिखता है या परतदार की तरह दिखता है, तो यह अच्छी गुणवत्ता का नहीं है। यह गोलाकार दिखाई देगा जब कच्चा पत्ता नरम और छोटे आकार का होगी। और यह पत्ता सही ढंग से मुरझाया गया है और काटने की मशीन सही ढंग से कटौती, मोड़ और कर्ल किया है। वजन ---- चाय की गुणवत्ता का परीक्षण करने के लिए यह और एक प्रभावी तत्काल परीक्षण है। बस अपने हाथ में कुछ चाय लें और फिर दूसरी हाथ में इसी तरह की मात्रा के समान अन्य चाय लें। अब वजन की तुलना करें। लगभग समान मात्रा और आकार के बावजूद, चाय का एक हाथ अधिक वजन होता है, तब वह चाय बेहतर गुणवत्ता का है। सही कीमत पर सही चाय का पता लगाने का आनंद लें। हम चाहते हैं कि आप अपने चाय व्यवसाय में सफल हों।

Subrata Choudhury
Easy technique to test tea.

How to find out quality of tea ......
If you are a tea businessman or want to be a tea businessman, you must have knowledge to understand quality of tea.
So that when you buy tea, you can distinctly identify Good Tea, Better Tea, Average Tea and particularly low quality Tea.
To find out quality of tea, best option is to make a cup of tea, taste and test it, as is done by professional tea taster.
But when you go to a wholesale market to buy tea, good chance is that you will not find tea testing facilities in their shops.
So here you can go for the alternative way of tea testing. These techniques are very effective. All retail tea buyers use all or some of these technique to choose their tea from retailer.
1. Smell-----
Good tea contains a distinct tea aroma, which is sweet and heavenly. The aroma itself should force you to appreciate it. Good quality tea aroma is unparalleled. You will not get similar aroma in any other thing of this planet. If you smell two different type of flowers, you will find some broad similarity in these flowers. But not in case of tea. Its always unique.
Which differs from under withered or tea green leaf. If you find the aroma of tea, smells like vegetables or non tea items, be assured that its not of desired quality. Then either it is underwithered or mixed with something--- intentionally or unintentionally.
Look------
Look of the tea should be blackish or brownish black but not dark black. Overly Dark black is done artificially hence its of low quality.
Brown colour means its secondary tea or over grown leaf were used to make the tea.
So again it is of low quality. But remember, secondary tea is lower in quality than primary tea but that does not mean its truly of low quality. Where as tea made of overgrown leaf will contain fibre protruding from the granules. Because cutting machine could not cut or twist it properly.
Good quality tea will show a glaze or glow or bloom on granules. Alternatively, it will look dull and old.
Cutting-----
Tea granules should look like totally rounded without any protruding fibre. If it looks like flat or looks like flakes, its not at all good quality. This would look rounded when green leaf were of acceptable size, withered or dried correctly and the cutting machine is sharp enough to cut, twist and curl it properly.
Weight----
This is another effective instant test for testing tea quality. Just take some tea in your one hand and then take some other similar grade of tea of similar quantity in the other hand.
Now compare the weight.
If despite almost of same quantity and size, one hand of tea seems more dense, then its better quality then the other tea.

Enjoy finding out right tea at right price.
We want you to succeed in your tea business.


Subrata Choudhury
Tea Testing Tutorials for beginners

If you are in tea business, you can use this technique to select your tea. If your friends are in tea business, you may forward it to them. Tea tasting is a very important part for starting and running a tea business-- successfully. Apparently, its not an easy task. A tea taster can differentiate over 600 different tastes of tea. Full fledged academic courses are there to learn tea tasting. It varies from 45 days to 1 full year. It will definitely be an advantage, if you are a qualified tea taster. You will be able to understand tea quality and its reasonable price immediately. But most probably, tea tasting course is not available in your city, or you may not have time to pursue the course. Do not break down, every person is a tea taster. It is always better to do a course, but if you can not, just follow these guidelines to taste tea. If yo want to follow tea tasting technique use by qualified tea taster, please arrange these small equipments--10 Tea testers' mugs of 100 ML size with lead, 10 Tea Bowls, 10 small tea box, 1 Tea Spoon, 2000 watt Electric kettle, 1 or 2 litre size, A sand watch or electronic stop watch, a electronic scale 20 gram capacity. First of all Put water in electric heater and boil the water. measure each type of tea separately 2 gram each from the tea box with the electronic scale. Put the measured tea in each cup, keep tea box aligned parallel to the cup, so that you can recognise it. After putting 2 grams tea in tester' cup, fill hot boiled water in the cup up to the brink, put the lead on and wait for 5 minutes using electronic watch for tea steeping. Now pour the content of cups to tea bowls and align it to the cups and tea box. But Do not pour the tea leaves on the bowls. Put the leaves on lid of the cup, so that you can check it visually. Now its time for actual tasting. Take the first bowl in your hand, sip a good mouthful of tea, start rolling it on your tongue. As if you are eating the tea. Let your taste bud feel the taste. If you are not sure in the first sip, threw it out in a bucket and take another sip. Repeat the process till its clear to you. But before checking the second cup, check tea leaves on the lid, check its color, fragrance. The more coppery the color is, better the quality. If the green color is visible on the edge of the cup, then the green leaves are not withered properly and its of low quality. After keeping the cup at least for half an hour, check, the cup for colour of tea, does it have a layer of milk like colour? If there is a milky layer or milk like colour then it is of very good quality. But if it is blackish colour then quality is low. When you finished checking all these criteria, then start checking the second cup following same rules. After checking the second cup, if you find it better then first cup then put the cup slightly above the first cup. But if you find it lower quality then first cup put it below the first cup. Again if you find that first and second cups are of same quality then put both the cup in same line. Do this with all the cups. That will help you to remember quality of each cup even after hours. In the beginning, you may not able able to remember all the positive or negative points of testing a tea cup. So better to write it down in a piece of paper------ 1. What is the colour of tea and infused leaf ? 2. Is it bright or dull colour ? 3. Is there any greenish taint at side part of cup ? 4. How does the tea taste ? 5. How does it smell ? 6. Does to smell of any non tea item, even a faint smell ? When you are testing tea, some important things you must remember ---- A. Price of tea must not influence your judgement. B. You are not a professional Tea Taster, You are tasting tea for selecting tea for your business. So find out the taste, which are prefered by your buyers. You may or may not require very high quality tea. You may improvise the equipments with your home cups, water heater, wrist watch etc but 2 gram tea and 5 minutes steeping time must be maintained. You may also mix milk to find out the look of final product.

Sanbhu Charan Ratnakar
चाय का परीक्षण कैसे करें

यदि आप चाय व्यवसाय में हैं, तो आप अपनी चाय खरीद करने के लिए इस तकनीक का उपयोग कर सकते हैं। यदि आपके मित्र चाय व्यवसाय में हैं, तो आप उन्हें बता सकते है। चाय व्यवसाय शुरू करने और सफलतापूर्वक चलाने के लिए चाय जांच करना एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है - । जाहिर है, यह एक आसान काम नहीं है। एक चाय टस्टर चाय के 600 से अधिक विभिन्न स्वाद को अलग कर सकता है। चाय स्वाद सीखने के लिए पूरा अकादमिक पाठ्यक्रम हैं। यह 45 दिनों से 1 वर्ष तक भिन्न होता है। यदि आप एक निपुण चाय टस्टर हैं तो यह निश्चित रूप से एक फायदा होगा। आप चाय की गुणवत्ता और इसकी उचित कीमत तुरंत समझ पाएंगे।   लेकिन सबसे अधिक संभावना है कि चाय परिक्षण कोर्स आपके शहर में उपलब्ध नहीं है, या आपके पास पाठ्यक्रम का पीछा करने का समय नहीं है। टूटना मत, हर व्यक्ति एक चाय टस्टर है। कोर्स करना हमेशा बेहतर होता है, लेकिन यदि आप नहीं कर सकते हैं, तो चाय का स्वाद लेने के लिए इन दिशानिर्देशों का पालन करें। यदि आप चाय चखने की तकनीक का पालन करना चाहते हैं, तो कृपया इन छोटे उपकरणों की व्यवस्था करें - 100 एमएल आकार के, 10 चाय परीक्षण मग, 10 चाय प्याला या चाय का बाउल, 10 छोटे चाय के बक्से, 1 चाय चम्मच, 2000 वाट इलेक्ट्रिक हीटर -- 1 या 2 लीटर आकार, एक रेत घड़ी या इलेक्ट्रॉनिक स्टॉप घड़ी, एक इलेक्ट्रॉनिक पैमाने 20 ग्राम क्षमता। सबसे पहले पानी को हीटर में पानी डालें और पानी उबालें। इलेक्ट्रॉनिक पैमाने के साथ चाय बॉक्स से प्रत्येक प्रकार की चाय को 2 ग्राम अलग से मापें। प्रत्येक कप में मापा हुआ चाय रखें, चाय का बक्सों को कप के सीधा लाइन में रखे, ताकि आप इसे पहचान सकें। टेस्टर कप में 2 ग्राम चाय डालें, फिर कप में उबले हुए पानी को कगार तक भरें, और इलेक्ट्रॉनिक घड़ी का उपयोग करके चाय भिगोने के लिए 5 मिनट तक प्रतीक्षा करें। अब चाय के प्याला या चाय का बाउल में कप की चाय डालें और इसे कप और चाय का बक्सों के सीधा लाइन में रखे। लेकिन प्याला पर चाय के पत्तों को न डालें। पत्तियों को ढक्कन पर रखें, ताकि आप आखोंसे इसका गुणबत्ता कि अनुमान लगा सकें। अभ असल चाय परीक्षण के लिए इये तैयार है। अपने हाथ में पहला प्याला लें, चाय का पूरा एक घूंट लीजिये, अपनी जीभ पर उसे घूमते रहे, जैसे आप उसको खा रहे है। अपने जिव से उसका स्वाद महसूस करते रहे लगभग ३० सेकंड तक। आप अगर पहल घूंट में समज नहीं पाते तो फिर से अरेक घूंट ले ओर पहले की तारा उसको अपने जिब से टेस्ट करे। जब आपको इसका स्वाद स्पष्ट ओर साफ़ हो जाता है तब आप दूसरे कप को टेस्ट करिये । लेकिन दूसरा कप जांचने से पहले, कप बनाने के लिए जो भीगा हुआ चाय पत्ति ढक्कन में रखे ते उसको चेक करे , उसके रंग, सुगंध को जांचें। जितना ज्यादा तांबे का रंग जैसा है तो अच्छा क्वालिटी है । कप के किनारे में हरा रंग दिखाई दे रहा है तो हरा पत्ति ठीक तारा से सुखाया नहीं है । कप को आधा घोंटा रखने के बाद में क्या रंग आता है, काला पड़ता है, या दूध जैसा एक परत आ ता है ? अगर दूध जैसा परत पड़ता है तो बहुत ही अच्छा क्वालिटी है । लेकिन अगर यह काला हो जाता है तो इसकी गुणवत्ता कम है । शुरुआत में आप इन सभी चीजोंको को याद नहीं कर सकते हैं । इन सभी को लिखना बेहतर है इसी लिए इन सभी चीजों को एक कागज में लिखके रखना बेहतर होगा------ 1. चाय और इन्फ्यूज्ड पत्ती का रंग क्या है? क्या यह उज्ज्वल या सुस्त रंग है? या कप के किनारे पर कोई ग्रीनिश टेंट है? 2. चाय का स्वाद कैसा है? 3. यह कैसे गंध करता है? 4. किसी भी गैर चाय वस्तु, की गंध है ? अब आप दूसरी कप चाय का परीक्षण शुरू कर सकते हैं। पहले कप परीक्षण के दौरान किए गए सभी कदम दोहराएं। यदि आपको लगता है कि पहला कप दूसरे कप से बेहतर है, तो कप को दूसरे कप से थोड़ा ऊपर में रखे । लेकिन अगर दोनों कपों का स्वाद बराबर होता है तो दोनों कप एक ही पंक्ति में रखे । दूसरी तरफ, यदि दूसरा कप पहले कप से बेहतर है तो उसे दूसरे कप की लाइन से निचे रखे। मेज पर सभी चाय कप के लिए ऐसा करते रहिये जैसे के बाद में आप ओ लाइन देख के बोल सके, कोण कप कोण कप से बेहतर है ओर कोण कप कोण कप से गुणवत्ता में नीचे है । अंत में दूध मिलाएं। यहां जैसे ज्यादा घरो में दूध मिलाके चाय पीते है, तो आप भी उसी चाय में दूध मिलाके फाइनल चेक करिये, आपका पसंदिता रंग ओर कड़कपन आया है या नहीं । कुछ महत्वपूर्ण चीजें जिन्हें आपको याद रखना चाहिए ---- १ नंबर, चाय की कीमत आपके फैसले को प्रभावित नहीं करेगी। चाय की कीमत ज्यादा हो सकती है लेकिन यह बेहतर गुणवत्ता वाली चाय हो भी सकती है , नहीं भी हो सकती है । आपको टेस्ट करे कैसा लगा, अच्छा या सदर्न क्वालिटी, उसीको हमेसा फाइनल मानिये २ नंबर । आप एक पेशेवर चाय टस्टर नहीं हैं, आप अपने चाय व्यापार के लिए चाय का चयन कर रहे हैं। आपको ओ स्वाद चाहिए, जो आपका खरीदार पसंद करेंगे। आपको बहुत उच्च गुणवत्ता वाली चाय की आवश्यकता हो सकती है या नहीं भी हो सकती है । आप अपने घर के कप, वॉटर हीटर, कलाई घड़ी आदि के साथ उपकरणों को उपयोग सकते हैं लेकिन 2 ग्राम चाय और 5 मिनट भिगोना के समय को बनाए रखा जाना चाहिए। अगर आपको यह पसंद आया है तो कृपया हमें एक like दें और इसे अपने चाय दोस्तों को इसका लिंक भेजे। THANK YOU SIRS.

Syam Sundar Dey
जी एस टी सुरु होने के बाद चाय का ब्यापार कैसे सुरु करे !

हमारे देश , भारत में, चाय बहुत लोकप्रिय है। आप हर जगह चाय स्टाल पाएंगे। मुख्य सड़कों पर, गली में, यहां तक ​​कि गली का गली में भी। सभी रेस्टुरेंट चाय बेचता है। हर घर के सदस्य चाय पीते हैं और हर मान्य मेहमानों को चाय पिलाता हैं। एक चाय व्यवसायी के चाय बाजार बहुतही बड़ा है, उनके लिए चाय को बेचना समस्या नहीं है। दूसरी ओर भारत चाय का सबसे बड़ा उत्पादक है। इसलिए सप्लायर का मिलना, कोई समस्या नहीं है। चूंकि दोनों विक्रेता और खरीदारों प्रचुर मात्रा में हैं, इसलिए कोई भी भारत में चाय व्यवसाय शुरू कर सकता है। इसे एक बड़ा व्यवसाय बनाने के लिए, पहले इन मूल काम में मनोयोग दे। सबसे पहले, अपने शहर के नगरपालिका प्राधिकरण से एक व्यापार लाइसेंस लें। यदि आप अपने नाम या अपनी फार्म के नाम से शुरू करना चाहते हैं, तो उनके फर्म में एक आवेदन करे। आवेदन के साथ, आपको आबेदन में बिजनेस का नाम, पता, किस चीज का बिजनेस, आपके व्यापार प्रतिष्ठान के आकार, अपनी खुद की फोटो आईडी और एक छोटा सा शुल्क जमा करना होगा। यदि आप साझेदारी या कंपनी व्यवसाय शुरू कर रहे हैं तो आपको व्यापार लाइसेंस के लिए साझेदारी दस्तावेज या आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन जमा करना होगा। आपको नगरपालिका प्राधिकरण से सात दिनों के भीतर अपना व्यापार लाइसेंस मिल जाना चाहिए। अब, आपको जीएसटी पंजीकरण और एक चालू खाता बनाने की आवश्यकता है। जी एस टी दो तरीके के होते है, रेगुलर ओर कम्पोजिट। कम्पोजिट जीएसटी पंजीकरण आपके राज्य के भीतर व्यवसाय करने के लिए है और रेगुलर जीएसटी पंजीकरण पूरे भारत में व्यवसाय करने के लिए है। जैसा कि हमने पहले कहा था, चाय पूरे भारत में बहुत लोकप्रिय है, इसलिए रेगुलर जीएसटी पंजीकरण आपके व्यवसाय के लिए बेहतर होगा। लेकिन यदि आप छोटे पैमाने पर शुरू कर रहे हैं तो कम्पोजिट जीएसटी पर्याप्त है। जीएसटी पंजीकरण में आमतौर पर सात से दस दिन लगते हैं। वे थो---ड़ा सा करा शुल्क लेते हैं। आप स्थानीय बिक्री कर कार्यालय से अपना जीएसटी पंजीकरण कर सकते हैं। अब आपको एक चालू खाता की आवश्यकता है। आप अपनी फार्म के नाम पर बैंक खाता खोल सकते हैं। स्थानीय प्राधिकरण से व्यापार लाइसेंस प्राप्त करने के बाद आप ऐसा कर सकते हैं। यदि आप अपने नामसे खाता खोलना चाहते हैं तो आपको व्यापार लाइसेंस की आवश्यकता नहीं है। सामान्य प्रमाण जैसे आईडी सबूत, फोटो आईडी सबूत और पता प्रमाण पर्याप्त हैं। लेकिन आपके फार्म के नाम पर अपना बैंक खाता खोलना बेहतर है। व्यापार लाइसेंस प्राप्त करने के लिए लगभग सात दिन की आवश्यकता है, जीएसटी पंजीकरण एक और सात दिन और इस 14 दिनों के भीतर, आपका बैंक खाता भी तैयार हो जायेगा। इस 14 दिनों के भीतर, अपनी व्यावसायिक योजनाओं को अंतिम रूप दें। सबसे पहले- - - कई प्रकार की चाय हैं। इनमें सीटीसी, ऑर्थोडॉक्स, हरी चाय, ओलोंग चाय आदि शामिल हैं। सीटीसी, ऑर्थोडॉक्स और हरी चाय सबसे लोकप्रिय हैं। आप किस चाय का ब्यापार करना चाहते हैं?

Ram Pal Satnami
Requirements For Starting Home Based Tea Business

In our country, India, tea is very popular. You will find tea stall every where. On main roads, in lane, even in by lanes. All restaura offers tea. Every household members drink tea and offer tea to every wanted guests. So as a prospective tea businessman, your tea market is huge, selling your product is not problem. On the other hand India is the largest producer of tea. So getting supply is not a problem for a tea businessman. Since both sellers and buyers are in abundant supply, any one can start tea business in India. To start a tea business with an aim to make it a large business house, first take these basic steps. First of all, take a trade license from municipal authority of your town or city. If you want to start in your name or in your firm’s name, a simple application in prescribed form will do. Along with the application, you are required to submit proof of address of your business, your own photo ID and a small fee depending upon nature of business and or size of your business establishment. If you are starting a partnership business then you require to submit Partnership deed or Articles of Association in case of Limited Company for getting trade license or making bank account. You should get your trade license within seven days from the municipal authority. Now, you require to make GST registration and a Current account. Composite GST registration is for doing business within your State and Regular GST Registration is for doing business all over India. As we said earlier, tea is very popular throughout India, so Regular GST Registration will be better for your business. But if you are starting in small scale then Composite GST registration is more than enough. GST registration usually takes seven to ten days. They also charge a very small fee. You can get your GST registration from local Sales Tax Office. Now you require a Current Account. You can open a bank account in your firm’s name. That you can do that after you get Trade License from local authority. If you want to open Current account in your own name then you do not require trade license. Normal documents like ID proof, Photo ID proof and address proof are enough. But it is better to open your account in your firm’s name. So getting trade license requires approximately seven days, GST registration another seven days and within this 14 days, your bank account will also be ready. Within this 14 days of gestation period, finalize your business plans. First- There are many types of tea. These include CTC, Orthodox, Green Tea, Oolong Tea Etc. Most popular are CTC, Orthodox and Green Tea. Which one you want to deal with ? Secondly- Who are going to supply tea to you? It is always better to buy it directly from tea gardens, but 99.99% tea gardens will not sell less than 10000 kg at a time. Local wholesalers will give you in small quantity but charge at least 25% to 50% more. Thirdly- Tea price depends on its quality, it might starts from Rs 70 to Rs 7000. What is your prospective consumers’ preferences ? Lastly- Loose tea or Packet Tea ? Probable answer to this question may be—- First- In India or in Asia CTC tea is very popular than all other tea. In Europe, Orthodox is more popular. Other tea are costly and not so popular has got limited market. Secondly- Few Assam gardens sell in small quantity like minimum 500 kg. You may get Small Quantity Assam Tea from www.assamteasellers.in . Thirdly-If you are in a big city you can sell all qualities and all price ranges. But in a town or village, low to medium price range will be more popular. Lastly–You can sell both packet and loose tea. You can pack it yourselve in 1 kg, 500 gram packets without level and gradually start your own brand. If your packets are without any level, you will not require to be registered with FSSAI. Once your tea becomes popular, then you can get it registered with Food Liesence authority or FSSAI. Other than these basic four decisions, you will require to decide many other things, like place of business, sales personnel, size of your establishment etc. When you have taken all these decisions, you are fully prepared to launch tea business. Be sure, after a year, you will relish the decision of starting tea business.

Garjan Singh
चाय ब्लेंडिंग करने का सरल उपाय

चाय सम्मिश्रण या ब्लेन्डिंग करने और इसे उच्च गुणवत्ता वाले चाय बनाने के लिए सरल प्रक्रिया के जानकारी लिए। अपनी पैकेट चाय या अपने खुद के ब्रांड को चालू करने के लिए चाय ब्लेन्डिंग महत्वपूर्ण है। ब्लेन्डिंग एक आसान काम है एक साधारण भाषा के ब्लेन्डिंग में एक साथ कुछ वस्तुओं का ब्लेन्डिंग करने का मतलब है। आप अपनी पैकेट चाय गुणवत्ता में सुधार के लिए चाय के एक या एक से अधिक ब्लेन्डिंग बना सकते हैं। क्या आपने देखा है, लगभग सभी पैकेट वाली चाय चार या पांच प्रकार के चाय के सम्मिश्रण या ब्लेन्डिंग हैं। चाय के बुनियादी स्वाद को बदलने के लिए चाय का ब्लेन्डिंग मुख्य रूप से किया जाता है। दूसरे, चाय के स्वाद और स्वाद को बढ़ाने के लिए। तीसरा, पूरे साल चाय की एक समान गुणवत्ता बनाए रखने या चाय के समान स्वाद को बनाए रखने के लिए। चौथाई, चाय की लागत में कटौती करने और इसे और अधिक किफायती बनाने के लिए। यदि आप चाय प्रौद्योगिकी के एक छात्र हैं, तो आप पहले से ही जानते है कि उत्पादन के बाद, चाय के आकार के अनुसार श्रेणीकृत किया जाता है। हर आकार के चाय को अलग-अलग स्वाद और सुगंध मिलते हैं। सरल नियम है चाय का बड़ा आकार है तो, ज्यादा सुवास है। दूसरी तरफ छोटे आकार के चाय दाना कड़क चाय बनाते हैं। इसका मतलब है, कि बी ओ पी एल कि ज्यादा सुगंध की तुलना में कड़ापन कम होगा । जबकि बी ओ पी एल, बी ओ पी के मुकाबले डास्ट अधिक कड़क होगा। क्या आपको याद है, आपने पिछला ट्रेन यात्रा में डिप टी पि थी। अगर आप उन छोटे चाय बैग खोलते हैं, तो आपको 2 ग्राम, पी डी या डास्ट मिलेगा या चाय के बैग में इन दोनो का ब्लेन्डिंग मिलेगा। सभी खरीदारों अच्छे खुसबु के साथ कड़क चाय पसंद करते हैं। लेकिन कितना कड़क होगा, वह भिन्न खरीदार का पसंद भिन्न होती है। कुछ लोग बहुत कड़क चाय पसंद करते हैं और कुछ मामूली कड़क चाय पसंद करते हैं। तो एक चाय को हर किसी का पसंदीदा कड़क चाय बनाने के लिए आपको इसे छोटे ग्रेड के साथ ब्लेन्डिंग करके इसका ताकत बढ़ाना है, या उच्च गुणवत्ता वाला मेहेंगा कड़क चाय खरीदना है । इसी प्रकार, इसके खुसबू को बनाए रखने या बढ़ाने के लिए, या तो बड़ा आकार का दाना का उपयोग करें या मेहेंगा चाय के व्यवहार करे। किन्तु महंगा चाय के साथ बाजार में चलना मुश्किल है। इस लेख की शुरुआत में, हमने बला कि, लगभग सभी पैकेट चाय निर्माताओं चार / पांच प्रकार की चाय का उपयोग करते हैं। कृपया अपना घरका चाय पाउच को जांचें। आपको इसमें चार / पांच प्रकार की चाय मिलेगी। कुछ बड़े दाना, कुछ मध्यम, कुछ छोटे होते हैं, कुछ काले हैं और कुछ भूरे रंग के होगा । यहां तक ​​कि अगर आप अलग-अलग उत्पादन महीनों के एक ही चाय ब्रांड को खोलते हैं, तो बहुत ज्यादा संभावना यह है कि दो पैकेट में चाय के दाना का आकार बिल्कुल अलग है। आप यह भी पा सकते हैं कि दो उत्पादन महीनों में चायका स्वाद में अंतर हैं। जैसा कि हमने उल्लेख किया है, खुसबू के लिए बड़ा दाना का और कड़ापन के लिए छोटे दाना उपयोग किया जाता है। तो खुसबू के लिए बीपीएस, बीओपीएल, बीओपी या बीओपीएसएम का उपयोग करें। बीपीएस और बीओपीएल बड़े आकार के होते हैं, इसलिए ये देखने में इतना अच्छा नहीं लगते। इसलिए यदि आप इन दो ग्रेड का उपयोग करते हैं तो इन्हें जितना संभव हो, उतना कम उपयोग करें, अधिकतम पांच से दस प्रतिशत बीओपी का आकार ग्राह्य लगता है, तो इसका उपयोग मात्रा, बीस प्रतिशत हो सकता है बी ओ पि एस ऍम में खुसबू और कड़ापन मौजूद रहता हैं, इसीको अधिक मात्रा में इस्तेमाल किया जा सकता है यदि आप तीस प्रतिशत तक बी ओ पि एस ऍम का उपयोग करते हैं, तो यह चाय की गुणवत्ता में वृद्धि करेगा। इसी प्रकार बी पी में कड़ापन और खुसबू दोनोही मौजूद रहता हैं। वास्तव में, हम बी ओ पी एस एम और बी पी को प्रीमियम ग्रेड के रूप में मानते हैं और आम तौर पर इन दोनों ग्रेड अन्य ग्रेड की तुलना में ज्यादा क़ीमत मिलता हैं। बी पी को चाय के ब्लेन्डिंग में पचास साठ प्रतिशत या अधिक रखा जा सकता है। ओ एफ ग्रेड में खुसबू से अधिक कड़ापन शामिल हैं एक ब्लेन्डिंग में बीस या तीस प्रतिशत आपको बहुत कड़क चाय देगा। पी डी और डस्ट इसी तरह बहुत कड़क चाय और बहुत खुसबू के लिए कम होते हैं। दस प्रतिशत पी डी आम तौर पर किसी भी अच्छा ब्लेन्डिंग के लिए पर्याप्त है यह बीओपी या बीओपीएसएम जैसे बड़े आकार के मुकाबले पी डी और डस्ट आपकी चाय बहुत जल्दी बनायेगा। यह ज्यादातर चाय बैग बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है। हमारे सुझाव, चाय के मिश्रण में दो या तीन प्रतिशत का उपयोग करें। लागत में कटौती और पूरे वर्ष के समान गुण बनाए रखने के लिए, आप इन सभी ग्रेड के प्राइमरी और सेकेंडरी, दोनों का उपयोग कर सकते हैं। चाय बगीचा आम तौर पर अप्रैल से मई तक बेहतर चाय बनाते हैं। जून से अगस्त के दौरान सर्वश्रेष्ठ चाय. फिर सितंबर-नवंबर से बेहतर चाय। सिवाय पूजा फ्लश के दौरान। दिसंबर से जनवरी तक हलका चाय, मध्य जनवरी से लेकर मार्च तक आम तौर पर पूर्वी भारतीय चाय बगीचा में उत्पादन बंद रहता है। इस कैलेंडर के आधार पर आप प्राइमरी या सेकेंडरी मात्रा में वृद्धि या कमी कर सकते हैं। उदाहरण के लिए जून से अगस्त तक, जब चाय सबसे अच्छी गुण का है, तो आप सेकेंडरी चाय की वृद्धि और प्राइमरी चाय का कटौती कर सकते हैं। इस तरह आप एक ही मान और कम कीमत बनाए रख सकते हैं। फिर से जब चाय केवल दिसंबर के दौरान हलकी हो जाती है, तो आप प्राइमरी वृद्धि कर सकते हैं या सेकेंडरी के उपयोग कम या बंद कर सकते हैं। जब आप असल में चाय का ब्लेन्डिंग करते हैं, तब हमेशा कोशिश करें कि सभी ग्रेड का रंग जितना संभव हो एक रंग दिखाना चाहिए । जब आप प्राइमरी के साथ सेकेंडरी ब्लेन्डिंग करते हैं तो एक रंग नहीं भी हो सकता है । इस बारे में लिए चाय खरीदने के समय ख्याल रखे । पश्चिम बंगाल में कई चाय बगीचा कृत्रिम रूप से, चाय को काला करते है, उससे चाय का कड़कपन कम हो जाता है । यह प्रकार चाय हमेशा सस्ता है और ब्लेन्डिंग के लिए अच्छा है। अपने क्षेत्र के लिए सबसे पसंदीदा ब्लेन्डिंग खोजने के लिए, अपने स्थानीय लोकप्रिय ब्रांडों के सब्लेन्डिंग को कॉपी करने का कोशिश करें। इसे अपने दिल में मत लेना अगर आप इसे शत प्रतिशत कॉपी नहीं कर सकते हैं, क्योंकि शत प्रतिशत नहीं किया जा सकता है। शत प्रतिशत तो मूल ब्लेंडर भी नहीं कर सकता है। सबसे पहले, आप सभी चाय ग्रेड अलग अलग से स्वाद का परीक्षण करें। इससे आपको हर ग्रेड का स्वाद अलग अलग से पता लग जायेगा। उस पर निर्भर करके, आप इसे छोटी मात्रा में मिलाये, जैसे के २० ग्राम का ब्लेंडिंग। फिर उसी 20 ग्राम ब्लेंडिंग का चाय बनाकर जाँच करे, अगर आपको यह पसंद हुआ, तो आपका काम हो गया । अगर आपको इसे पसंद नहीं है या आप इसे और सुधारना चाहते है तो, ग्रेड का अनुपात बदलें, और इसे फिर से जांचें। आपका पसंदिता ब्लेंडिंग के लिए शायद आपको बी ओ पि अस ऍम बढ़ाना पड़े या पि डी को बढ़ाना पड़े या फिर ओ एफ को कमाना पड़े। अलग अलग ग्रेड परसेंटेज से परीक्षण के बाद, जब आप संतुष्ट हो जाते हैं, तब आपका ब्लेन्डिंग तैयार हो गया । हमेशा याद रखें, जब जब आप चाय खरीदेंगे, हर बार इसका गुण अलग होगी, भले ही आप इसे एक ही बगिचेसे बार बार ख़रीदे। इस लिए हर खरीदारी के बाद आपको फिरसे ब्लेंडिंग प्रक्रिया करना पड़ेगा।

Surya Pratap Singh
Tea Blending Tutorials

Simple procedure for Blending Tea and make it high quality tea. Tea blending is very important for launching your own packet tea or your own brand. Blending is an easy job. In a simple language blending means mixing a few items together. You can make one or more blends of tea for selling your own packet tea. Have you noticed, almost all packeted tea are mixture or blends of 4/5 types of tea. Blending of tea is done primarily for changing the basic taste of tea. Secondly, to enhance its taste and flavour. Thirdly, to maintain similar quality of tea or to maintain similar taste of tea. Fourthly, to cut down the cost of tea and make it more affordable to mass buyers. If you are an student of tea technology, you have already learnt that after production, tea is graded according its sizes. Every size of tea has got different taste and flavours. Simple rule is bigger the size of granules, higher flavour is there. On other side smaller sized granules make the tea, strong to stronger. That means BOPL will have more flavour than strength. Where as Dust will be more strong than have flavour. Do you remember, you had taken dip tea in last train journey. If you open those small tea bags, you will find 2 gram, either PD or Dust or a mix of these two grades in the tea bag. All buyers prefer strong tea with good flavour. But degree of strongness vary from buyer to buyer. Some might prefer too strong tea and some might prefer moderately strong tea. So to make a tea average strong you are required to modify its strength by either blending it with smaller grades or mixing high quality strong tea. Similarly, to keep or enhance its flavour, either use big or bigger size of granules or go for high cost high flavour tea. In the beginning of this article, we mentioned that almost all packet tea makers use 4/5 types of tea. Please check your home tea packet. You will find 4/5 types of tea in that. Some are bigger, some are medium, some are small some are powdery, some are black and some are brown. Even if you open same tea brand of different production months, very good possibility is there that sizes of tea granules in 2 packets are absolutely different. You may even find that there are subtle or in worse case differences of taste in two production months. From this above points, we will note down how to blend tea with zero mistake. As we have mentioned, bigger granules are used for flavour and smaller granule are for liquor. So use BPs, BOPL, BOP or BOPsm for flavour. BPs and BOPL are large in size, so these are not very eye soothing. So if you use these 2 grades then use these as low as possible. May 5 to 10%. BOP is acceptable in eyes. So this may be used more in quantity, may be 20%. Bopsm contains flavour and liquor. So that may be used more in quantity. If you use even 30% BOPsm, it will enhance your tea quality in every respect. Similarly BP is also contains both flavour and liquor. In fact, we consider BOPsm and BP as premium grades and generally these two grades fetch more price than other grades. Bp may be put 50 / 60% or more in a tea blend. OF grade contains more liquor than flavour. 20 / 30% OF in a blend will give you very strong liquor. PD and DUST similarly contain much more liquor and low to very low flavour. 10% PD is generally sufficient for any normal blend. It will make your tea very quickly in comparison to bigger sizes like BOP or BOPsm. Dust is powdery in size. It has a tendency to come down though strainer. It makes very quick and strong tea. It is mostly used to make tea bags. We suggest use 2 /3% or less in a standard blend of tea. To cut down cost and to maintain similar standard throughout the year, you may use both primary and secondary of all these grades. Tea gardens generally make BETTER tea from April to May. Best tea during June to August. Again Better tea from September - November (Except during Puja Flush). GOOD tea in DECEMBER and MARCH. Mid January to Mid March generally production remains closed in eastern Indian tea gardens. Depending on this callender you may increase or decrease quantity of primary or secondary. For example During JUNE to AUGUST, when tea is of BEST quality, you may increase secondary and cut down primary. That way you can maintain a standard quality and at low price. Again when tea is only GOOD quality during December onwards, you can increase primary and decrease or stop using secondary. When you actually blend tea, always make sure that colour of all the grades are as far as possible, similar, if not same. When you mix secondary with primary then there is a very good chance that there will be a variation of colour. Better remain careful when you buy tea. Many tea gardens in West Bengal forcefully make their tea appear blackish at the cost of its Strength. That type of tea is low priced and good for mixing or blending with good quality tea. To find most prefered blend for your area, try to copy your local popular brands' blending. Dont worry, if you can not copy it 100%, Because it can not be done. Neither original blender can make it also. First you blend it in small quantity, may be a blend of 20 grams. Taste it, if you like it, your job is done. If you do not like it or you want to improve it further, just change the grades' ratio. May be use more BOPsm and less PD or vice versa or any other combination to arrive at your best blend. Once you are satisfied, your blend is ready. One reminder. Everytime you buy tea, quality will be different every time, even if you buy it from same gardens. So the process of blending you will require to do after every purchase.

Suraj Pratap Singh
सीटीसी अथबा काले चाय का श्रेणी

ई नए चाय व्यवसायी अक्सर प्राइमरी, सकेंडरी या आरपी चाय के बारे में भ्रमित हो जाते हैं। आसानि से समझने के लिए, हमने प्राइमरी, सेकेंडरी और आर पी चाय की व्याख्या करने का निर्णय लिया है। जब नए हरे पत्ते को संसाधित और वर्गीकृत किया जाता है, प्राइमरी चाय बन जाती है। प्राइमरी चाय हर चाय फेक्टरी की सर्वोत्तम चाय होता है। प्राइमरी चाय देखने मे उज्जल काला आर पीने में भी कड़क ओर सुगंधित होता है। प्राइमरी का कोवलिटी ओर दाम भी सबके ऊपर रहता है। अगर हरी पत्ती कोमल ओर छोटा आकार की है तो उससे ज्यादा परिमाण या पूरा ही प्राइमरी चाय बनता है। लेकिन अगर उसमे बड़ा ओर कर्कश हरि पत्ति है तो सॉर्टिंग मशीन उसे प्राइमरी चाय से अलग कर देते है। उसी अलग चाय को सेकेंडरी कहते है। सेकेंडरी कम काला या भूरा रंग के होते है। ओ प्राईमरी की जैसा उज्जल नही होते। उसमे फाइबर भी थोड़ा ज्यादा होता हैं। उसका स्वाद भी कम कडक ओर कम फ्लेवर का होते है। प्राइमरी और सेकेंडरी के कुछ परिमाण चायमें अधिक फाइबर होता है या बड़ा बड़ा आकार का होता है। इस चाय को फिरसे मशीन में चलाना पड़ता है। उसमे कुछ नया हरि पट्टी भी मिलाया जाता है। जैसे इसको फ्रेश चाय के जैसा लगे। इसीको आर पी या रेप्रोसेसड चाय बलते है। सीटीसी मशीनों में यह फिर से काटा जाता है जैसे कि नई चाय बनाई जा रही है। जैसे ये रद्दी से बनाया जाता है ओर दो बार मसीन में चलाया जाता है, इसी लिए इसका कोवलिटी सबसे नीचे ओर दाम सबसे सस्था होता है। सॉर्टिंग मसीन से सब चाय को अलग अलग साइज में बिभाग या ग्रेडिंग किया जाता है। फिर साइज के हिसाब से उसका नाम दिया जाता है। अगले बार इस बिभाग का अलग अलग चाय का नाम का चर्चा करेंगे। आप को अच्छा लगा तो शेयर करिए, जैसे के आपके दोस्तों को काम आए।

Sambhunath Singh
चाय व्यापार में कितना निवेश करें ।

वैज्ञानिक रूप से चाय व्यापार में कितना निवेश करें । चाय व्यवसाय अन्य व्यवसायों की तुलना में आसान है। आप इसे छोटे या बड़े पूंजी के साथ शुरू कर सकते हैं। एक नया चाय व्यापारी को यह तय करना होगा कि उसे चाय के व्यापार को शुरू करने के लिए कितना चाय चाहिए ? उसे कितना निवेश करना है ? अपने हाथ में कितना चाय रखाना चाहिए ? यह हिसाब बहुत सरल है । एक कप चाय बनाने के लिए आपको ढाई ग्राम असम सीटीसी चाय की आवश्यकता होती है। एक दिन में एक भारतीय कम से कम 4 कप चाय लेता है। इसका अर्थ है कि दस ग्राम चायका ग्रैन्यूलस या पाउडर है। यदि आपका शहर या आपके लक्षित बाजार में दस लाख आबादी हो, तो सिर्फ दस ग्राम गुणा दस लाख समान एक हज़ार किलोग्राम बढ़ो। यह दैनिक उपभोग है। मासिक नहीं, याद रखें। दूसरी चीज याद रखना कि आप अपने शहर में चाय व्यवसाय शुरू नहीं कर रहे हैं। पहले से ही बड़े और छोटे विक्रेता चाय बेच रहे हैं और लाभ कमा रहे हैं। अब आप तय करें, आप कितना दुकान और मकान में बिक्री करेंगे। मान लीजिए आप पहले महीने में दो प्रतिशत बाजार को कवर करेंगे, दूसरे महीने में चार प्रतिशत, तीसरे महीने में पंज प्रतिशत और इसी तरह इसे बढ़ाएं। इसका मतलब है, आपके पहले महीने में, आप दो सौ किलो दैनिक और छह हज़ार किलो मासिक बेचेंगे। हमने रविवार को भी शामिल किया है। क्योंकि हम सभी रविवार को चाय पीते हैं, यहां तक ​​कि अधिक कप चाय पीते हैं । अब अपने हाथ में अपने स्टॉक के बारे में सोचो। न्यूनतम मात्रा कितना रखने की आवश्यकता है। चाय ब्रांड कुछ हद तक सिगरेट ब्रांड की तरह हैं । लेकिन सिगरेट जैसी हानिकारक नहीं हैं। यदि आप विल्स पीते हैं। तो आप प्रत्येक समय विल्स खरीद लेंगे। जब तक यह आपके इलाके में उपलब्ध है। जब यह आपके क्षेत्र में उपलब्ध नहीं है। पसंदीदा ज़हर के लिए शायद एक या दो दिन हो सकता है आप अन्य क्षेत्र में खोज करने के लिए जाएंगे। लेकिन यदि यह सुविधा आसानी से उपलब्ध नहीं है, तो आप जल्द ही एक और आसानी से उपलब्ध ब्रांड चुन सकते हैं। आपके चाय खरीदार लगभग इसी तरह व्यवहार करते हैं । अगर वे आपकी चाय पसंद करते हैं, तो वे आसानी से उपलब्ध होने तक इसे ले जाएंगे। जिस दिन यह आसानी से उपलब्ध नहीं है। वे आपकी चाय आने के लिए इंतजार नहीं करेगा। लेकिन अगले आसानी से उपलब्ध ब्रांड खरीदी लेंगे। इसलिए दुकान की स्टॉक खत्म होने से पहले दुकानों को फिर से भरने के लिए आपके पास पर्याप्त स्टॉक होना चाहिए। तीसरा निर्णय पर आपको यह विचार करने की आवश्यकता है कि आपके आपूर्तिकर्ताओं से चाय प्राप्त करने के लिए कितना समय लगता है। यदि यह दो सप्ताह है, तो आपको कम से कम 2 सप्ताह का स्टॉक होना चाहिए या ज्यादा। इन निवेशों के अलावा, आपको अपने कार्यालय के व्यय और आपके बिक्री कर्मियों के खर्चों के बारे में फैसला करना होगा। ये विभिन्न जगह पर बहुत व्यापक रूप से भिन्न होते हैं। यह आप तय कर सकते हैं ।

Swarup Singh
Previous     1   2   3   4   5       Next


All articles are registered, Copy Write protected.

Andhra Tea,   Bihar Tea,  Chhattisgarh Tea,  Delhi Tea,  Gujarat Tea, Goa Tea, Haryana Tea, Himachal Pradesh Tea, Jammu Kashmir Tea, Jharkhand Tea, Karnataka Tea, Kerala Tea, Maharashtra Tea, Madhya Pradesh Tea, Odisha Tea, Punjab Tea, Rajasthan Tea, Sikkim Tea, Tamil Tea, Uttarakhand Tea, Uttar Pradesh Tea, West Bengal Tea, आसाम चाय,  আসাম চা, ગુજરાતી    SM